दूरबीन का आविष्कार किसने किया और कब ? 2021

दूरबीन का आविष्कार किसने किया और कब? आज के समय में हम जिस दूरबीन का आविष्कार करते हैं उसे कई वर्ष पहले किसी व्यक्ति ने बनाया था। इसका आविष्कार कब हुआ किसने किया एवं किस प्रकार किया क्या आपको इस बारे में किसी भी तरह की जानकारी है यदि नहीं है तो यह पोस्ट आपके लिए काफी फायदेमंद है। इस पोस्ट में हम आपको दूरबीन के आविष्कारक से संबंधित सभी तरह की जानकारी देंगे। तो चलिए हम यह जानते हैं कि दूरबीन का आविष्कार कब और किसने किया एवं किस प्रकार किया?

आज के समय में दूरबीन इतना अधिक बढ़ गया है कि हम पृथ्वी से लाखों-करोड़ों किलोमीटर दूर स्थित सभी ग्रहों एवं तारों तथा सभी खगोल पिंड को हम दूरबीन की सहायता से आसानी से देख सकते हैं एवं इसके साथ साथ दुनिया में ऐसी कई सारी तरह-तरह की दूरबीन लगाई गई है जिससे हम अंतरिक्ष पर होने वाले सभी तरह के चीजों एवं बनाया घटनाओं को आसानी से देख सकते हैं। अंतरिक्ष में काफी दूरी तक देखने के लिए वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष पर भी दूरबीन को स्थापित किया है। जैसे स्पीट्जर अंतरिक्ष दूरबीन, हबल अंतरिक्ष दूरबीन, फर्मी गामा किरण दूरबीन इत्यादि।

आजकल ऐसी ऐसी दूरबीन का आविष्कार हो चुका है जो तकनीकी रूप से उन्नत दूरबीन ओ की तुलना में विश्व के प्रारंभिक दूरबीन उसे बिल्कुल अलग है। फिर भी क्या आपको इस बात का पता है कि दुनिया में बनने वाली पहली दूरबीन कौन सी है या इसका आविष्कार किसने किया और कब किया तो चलिए आज हम इस बारे में जानते हैं।

मैं आपको यह बता देती हूं कि विश्व मे बनने वाली पहली दूरबीन 1908 इसवीं में एक चश्मा बनाने वाले व्यक्ति hans lippershey द्वारा नीदरलैंड में की गई थी। lippershey अपने द्वारा बनाई जाने वाली दुनिया की पहली दूरबीन का नाम kijker रखा था। kijker यह डच भाषा का शब्द होता है जिसका अर्थ देखने वाला होता है। उनकी इस तरह के अविष्कार से किसी भी वस्तु को कैमरे के जरिए दो से 3 गुना बड़ा करके देखा जा सकता था।

Hens lippershey द्वारा बनाई गई यह पहली दूरबीन दो लेंसों से मिलकर बनी थी दूरबीन के दोनों और एक गोलाकार लंबी नली लगाई गई थी। इसमें आईपीस के रूप में अवतल लेंस एवं ऑब्जेक्टिव के रूप में उत्तल लेंस का उपयोग किया गया था।

दूरबीन का आविष्कार किसने किया और कब
दूरबीन का आविष्कार किसने किया और कब

दूरबीन का आविष्कार किसने किया और कब?

वर्ष 1608 में hens lippershey ने अपने इस नए यंत्र के अविष्कार पर पूर्ण अधिकार करने के लिए नीदरलैंड की सरकार को एक आवेदन पत्र भेजा जिसे नीदरलैंड की सरकार ने जल्द ही स्वीकार कर लिया तथा इस दूरबीन की उपयोगिता को देखते हुए पुरस्कार के रूप में उन्होंने hens lippershey को 900 फ्लोरीन दीया। इस दूरबीन की मांग बढ़ते ही यह वर्ष 1608 के खत्म होते होते फ्रांस एवं पूरी दुनिया के सभी देशों में पहुंच गया था।

उस समय प्रसिद्ध खगोल वैज्ञानिक गेलीलियो गेलीलि के मित्र jacques bovedere जो फ्रांस के ही रहने वाले थे इसलिए जब उन्हें hens lippershey के इस नए आविष्कार के बारे में जानकारी मिली तो उन्होंने तुरंत अपने पत्र द्वारा गैलीलियो को सूचित किया। 1609 ईस्वी में जब गैलीलियो को hens lippershey के इस दूरबीन के आविष्कार के बारे में पता चला तब वे बिना lippershey के दूरबीन के मॉडल को देखते हुए अपने दूरबीन को बनाने में लग गए।

कुछ ही महीनों के कड़ी मेहनत के बाद गैलीलियो दूरबीन बनाने के सार्थक प्रयासों में सफल हुए। गैलीलियो द्वारा बनाए गए दूरबीन से किसी भी वस्तु को लगभग 20 गुना अधिक बड़ा करके देखा जा सकता था।

गैलीलियो ने अपने इस उपलब्धि से प्रभावित होकर 24 अगस्त 1609 ईस्वी को अपने इस आविष्कार को वेनिस के सीनेट के सामने प्रस्तुत किया था। सीनेट गैलीलियो के इस आविष्कार से काफी प्रसन्न हुए एवं इस दूरबीन के फायदे को जानते हुए उन्होंने गैलीलियो को जीवन भर के लिए इटली के पांडुआ विश्वविद्यालय का विख्याता बना दिया था।

इसी दूरबीन के आविष्कार के कारण गैलीलियो दूरबीन का उपयोग करके खगोलीय अन्वेषण करने वाले दुनिया के पहले व्यक्ति के रूप में जाने गए। गैलीलियो ने अपने टेलीस्कोप से देखकर ही चंद्रमा की सतह पर स्थित क्रेटर एवं चंद्रमा की विभिन्न तरह की अवस्थाओं का विस्तृत चित्र तैयार किया एवं साथ ही साथ वर्ष 1610 ईस्वी में शनि के छल्ले एवं बृहस्पति के चार चंद्रमाओं की भी खोज की।

हेंस लिपरशी कौन था?

Hens lippershey जिन्होंने पहली बार दूरबीन का आविष्कार किया था वह एक बहुत ही बढ़िया किस्म के चश्मा बनाने वाले कारीगर थे। उनके पास तरह-तरह के लेंस मौजूद हुआ करते थे। लिपरसी ने एक बार कुछ लेंसों को आपस में मिलाकर देखा तो उन्हें दूर की चीजें नजदीक दिखाई पड़ने लगी।

दूरबीन के आविष्कार का एक और किस्सा

दूरबीन बनाने का एक और किस्सा किताबों में पढ़ने को मिलता है। दूरबीन का आविष्कार यदि सही मायने में देखा जाए तो हेन्स lippershey ने नहीं बल्कि उनके छोटे बेटे ने किसी खेल खेल में किया था। स्कूल की छुट्टियों वाले दिनों में जब वह अपने पिता के काम में हाथ बटाने के लिए बैठा हुआ था तब उसने खेल खेल में प्रत्येक रंगीन लेंस को आंखों में लगा लगा कर दरवाजे की और देखना शुरू किया।

वह कभी लाल रंग की लेंस उठाता तो कभी पीले रंग की परंतु जब उसने सभी लेंस को मिलाकर देखना प्रारंभ किया तो सामने के गिरजाघर की मीनार एकदम नजदीक दिखाई पड़ने लगी। जब उस बच्चे ने अपने पिता को इसके बारे में बताया तभी lippershey ने दूरबीन का आविष्कार किया।

Conclution

इस तरह विभिन्न वैज्ञानिकों द्वारा दूरबीन के आविष्कार के सार्थक प्रयासों को सफल बनाया गया। आज विश्व भर में कई तरह के दूरबीन का आविष्कार हो चुका है जिसके जरिए लोग सौरमंडल मे स्थित विभिन्न ग्रहों के बारे में भी जानकारी प्राप्त कर लेते हैं।

मैं आशा करती हूं आज का हमारा यह पोस्ट आपको पसंद आया होगा। अब आपको यह जानकारी मिल चुकी है दूरबीन का आविष्कार किसने और कब किया एवं किस प्रकार किया? यदि आज का हमारा यह पोस्ट आपको पसंद आया हो तो इसे लाइक करें एवं शेयर करें ताकि और भी लोगों को इसके बारे में जानकारी मिल सके। यदि इस पोस्ट से संबंधित आपके मन में किसी भी तरह के सवाल है तो इसे हमारे पोस्ट के नीचे स्थित कमेंट बॉक्स पर अवश्य लिखें हम आपके सवालों के जवाब देने का प्रयास करेंगे। धन्यवाद…..

यह भी पढ़े 

Previous articleविटामिन की खोज किसने की | Vitamin ki khoj kisne ki 2021
Next articleतीरथ सिंह रावत जीवनी | Tirth Singh Rawat Biography In Hindi 2021

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here