Physics के जनक कौंन है। सम्पूर्ण जानकारी In Hindi 2021

physics ke Janak : भौतिक विज्ञान अर्थात what is physics in Hindi के इस लेख में हम आपको physics definition in Hindi के साथ-साथ physics ke Janak kaun hai एवं physics full details in Hindi के बारे में बताने वाले हैं।

जिसके माध्यम से भौतिक विज्ञान अर्थात फिजिक्स की पूरी जानकारी आपको उपलब्ध हो जाएगी। आइए जानते हैं भौतिक विज्ञान के बारे में, जो हमारे अध्ययन के लिए अत्यंत आवश्यक है।

भौतिक विज्ञान के जनक ? ( Physics ke Janak )

Physics ke Janak kaun hai की बात करें तो सबसे पहले कहा जा सकता है कि भौतिक विज्ञान का जनक किसी एक व्यक्ति को बताना उचित नहीं होगा क्योंकि सभी वैज्ञानिकों के प्रयास से ही आज हम भौतिक विज्ञान का लाभ उठा पा रहे हैं।

अनेक वैज्ञानिकों ने अपने प्रयास से भौतिक विज्ञान में भिन्न-भिन्न तरह के ज्ञान का समावेश किया है।
इसलिए “भौतिक विज्ञान” का जनक “सर आइज़क न्यूटन” को कहा जाता है और “आधुनिक भौतिक विज्ञान” का जनक “गैलीलियो गैलीली” और “अल्बर्ट आइंस्टाइन” को माना जाता है। ना ही आप भौतिक विज्ञान के जनक में किसी वैज्ञानिक को श्रेष्ठ बता सकते हैं और ना ही निम्न बता सकते हैं।

“सर आईजैक न्यूटन” इंग्लैंड के वैज्ञानिक थे और इन्होंने सबसे पहले गुरुत्वाकर्षण बल की खोज की थी और साथ ही साथ न्यूटन के 3 सिद्धांतों का प्रतिपादन किया था। इसलिए इन्हें भौतिक विज्ञान का जनक कहा जाता है।

Physics ke Janak
Physics ke Janak

Read also –  

Read also –   कार का आविष्कार किसने किया और कब किया।

भौतिक विज्ञान क्या है ?

भौतिक विज्ञान या भौतिकी शास्त्र प्रकृतिक विज्ञान की एक शाखा है। भौतिक विज्ञान को परिभाषित करना बहुत कठिन है। क्योंकि कुछ विद्वानों के धारणा के अनुसार यह ऊर्जा का एक विषय विज्ञान है और इसके अंतर्गत ऊर्जा के रूपांतरण और उसके द्रव्य सबंधो की व्यख्या की जाती है।

इसके द्वारा प्रकृति जगत और इसकी आन्तरिक क्रियाओं-कलापों का अध्ययन किया जाता है। भौतिक विज्ञान, विज्ञान का एक प्रमुख एवम् अभिन्न अंग है।

इसका क्षेत्र काफी विस्तार से फैला है और साथ ही साथ इसकी सीमा का आंकलन एवं निर्धारण करना बहुत ही कठिन है।

सभी वैज्ञानिको के तथ्य और विषय, विज्ञान की अन्य शाखायें भी या तो स्पष्ट रूप से या आंशिक रूप से भौतिक विज्ञान पर आधारित होती हैं या फिर इनके तथ्यों को इसके प्राथमिक सिद्धांतों से संबद्ध स्थापित करने का प्रयत्न अवश्य किया जाता है।

भौतिक विज्ञान का महत्व इसलिये भी अधिक है कि अभियांत्रिकी और शिल्प विज्ञान की जन्मदाता होने के साथ यह इस युग अथवा समय के सामाजिक एवं आर्थिक विकास की मूल प्रेरणा भी है। बहुत समय पहले इसको दर्शन शास्त्र का एक अभिन्न अंग मानकर प्राकृतिक फिलॉसोफी या प्राकृतिक दर्शनशास्त्र कहते थे।

भौतिक विज्ञान के अंतर्गत क्या अध्ययन किया जाता है ?

इसके द्वारा “प्राकृत जगत” और उसकी आन्तरिक क्रियाओं का पठन-पाठन किया जाता है। “स्थान”, “काल”, “गति”, “द्रव्य”, “विद्युत”, “प्रकाश”, “ऊष्मा” तथा “ध्वनि” इत्यादि विभिन्न विषय इसके अंतर्गत आते है। और इन सभी का अध्यन किया जाता है .

यह विज्ञान का एक मुख्य विभाग एवं अभिन्न अंग है। इसके सिद्धांत संपूर्ण रूप से विज्ञान में मान्य होते हैं और विज्ञान के प्रत्येक भागों में लागू भी होते हैं। भौतिक विज्ञान के अध्ययन का क्षेत्र बहुत ही विस्तृत है और इसके अंतर्गत लगभग समूचे विज्ञान का अध्ययन किया जाता है।

 भौतिक विज्ञान के प्रमुख क्षेत्र कौन-कौन से हैं ?

भौतिक विज्ञान के क्षेत्रों को मुख्य रूप से दो भागों में बांटा गया है जिसका व्याख्यान इस प्रकार है :-

i) चिरसम्मत भौतिकी विज्ञान :-

भौतिक विज्ञान की वह शाखा है जो बीसवीं शताब्दी में आरंभ हुई और जिसका विस्तार प्राचीन समय से निरंतर चलता आ रहा है और चलता रहेगा।

चिरसम्मत भौतिक विज्ञान को निम्नलिखित भागों में बांटा गया है :-

a) यांत्रिकी :-

यांत्रिकी विज्ञान में वस्तुओं में लगाया गया बल और उसकी गति के बारे में अध्ययन किया जाता है। इसका अर्थ है कि वस्तुओं की गतिशील अवस्था और उसकी समय अवस्था का अध्ययन किया जाता है।

b) ऊष्मागतिकी :-

भौतिक विज्ञान की शाखा में हम उस्मा और विभिन्न प्रकार के ऊर्जाओं का आपस में संबंध इत्यादि का विशेष अध्ययन किया जाता है। जैसे कि ताप देने से वस्तुओं में गतिज ऊर्जा का प्रभाव होता है और वस्तु मैं गति उत्पन्न होती है।

c) विद्युत चुंबकत्व :- 

आवेशित कणों एवं वस्तुओं के मध्य कुछ विशेष क्रियाएं होती है। जिससे विभिन्न प्रकार के प्रभाव उत्पन्न होते हैं जैसे विद्युत चुंबकत्व, चुंबकीय तरंगे इत्यादि। इस विज्ञान में हम विद्युत चुंबकत्व और चुंबकीय तरंगे का अध्ययन करते हैं।

d) ध्वनि विज्ञान :-

विज्ञान की इस शाखा में ध्वनि का अध्ययन किया जाता है। जैसे कि ध्वनि कैसे स्थानांतरित होती है और ध्वनि के स्थानांतरण में जो तरंगे उत्पन्न होती है उनके क्या गुण और धर्म होते हैं अर्थात तरंगों के गुण का भी अध्ययन भी इसी शाखा में होता है।

e) प्रकाशिकी :-

भौतिक विज्ञान के इस शाखा में प्रकाश की प्रकृति उसके गुण और धर्म तथा परावर्तन और अपवर्तन का भी अध्ययन किया जाता है।

ii) आधुनिक भौतिकी विज्ञान :-

विज्ञान की शाखा में कण तथा उनके व्यवहार का अध्ययन किया जाता है।

इन्हें भी कई भागों में बांटा गया है :-

a) अपेक्षिता :-

इस शाखा में उन वस्तुओं का अध्ययन किया जाता है जो प्रकाश के वेग के बराबर गतिमान होती हैं।

b) क्वांटम यांत्रिकी :-

इस विज्ञान में उन कणों का अध्ययन किया जाता है। जिसमें ऊर्जा बहुत छोटे स्केल पर आधारित होती है।

c) परमाणु भौतिकी :-

इसमें परमाणु की संरचना अवस्था और उसके गुण तथा धर्म का अध्ययन किया जाता है।

d) नाभिकीय भौतिकी :-

इसमें परमाणु की केंद्र की अवस्था, गुण और प्रकृति का अध्ययन किया जाता है।

Read Also – Television Ka Avishkar Kisne Kiya।

Read Also –  Sangya kise kahate hain Full details In Hindi

निष्कर्ष ( Conclusion ) –

दोस्तों हम आशा करते हैं कि what is physics in Hindi के इस लेख में हमने physics kya hai और physics ke Janak kaun hai से संबंधित सभी पहलुओं की जानकारी दी है, जो आपके एवं आपके सहपाठियों के लिए भी बेहद आवश्यक होगी।

यदि आपको यह पोस्ट पसंद आए तो इसे अपने मित्रों के साथ भी अवश्य शेयर करें। फिजिक्स के बारे में अन्य महत्वपूर्ण जानकारी के लिए हमें कमेंट करके अवश्य बताएं ताकि हम अन्य महत्वपूर्ण तथ्यों के बारे में आपको बता सके।

1 thought on “Physics के जनक कौंन है। सम्पूर्ण जानकारी In Hindi 2021”

Leave a Comment