विटामिन की खोज किसने की | Vitamin ki khoj kisne ki 2021

विटामिन की खोज किसने की : रासायनिक रूप से विटामिन एक कार्बनिक योगिक होते हैं जो हमारे शरीर में विभिन्न तरह के विटामिन की आवश्यकता को पूरा करते हैं। यह हमें फल हरी सब्जियाँ दूध एवं अन्य खाद्य पदार्थों से प्राप्त होते हैं । हमारे शरीर के लिए विटामिन काफी महत्वपूर्ण होता है। विटामिन की कमी के कारण हमारे शरीर में विभिन्न तरह के रोग होने की संभावना होती है। क्या आप इस बात को जानते हैं कि जिस विटामिन के कारण हमारा शरीर रोग मुक्त रहता हैं उसकी खोज किसने एवं कब की थी एवं किस प्रकार की थी? यदि आपको इस बारे में जानकारी नहीं है तो इस पोस्ट को पूरा अवश्य पढ़ें।

विटामिन की खोज किसने की

वर्ष 1912 ईस्वी में विटामिन तत्व की खोज फ्रेंडरिक होपकिंस के द्वारा की गई थी। सन 1929 में फ्रेडरिक होपकिंस को उनके इस खोज के लिए चिकित्सा विज्ञान की तरफ से नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। परंतु इस तत्व को पोलैंड के 1 वैज्ञानिक काशीमीर फंक ने इस तत्व का नामांकन करके इसका नाम विटामिन रखा।

विटामिन शब्द एक ग्रीक शब्द होता है। विटामिन शब्द में वीटा का अर्थ जीवन होता है एवं मीन का अर्थ तत्व होता है। इस प्रकार विटामिन शब्द का पूर्ण अर्थ हमारे जीवन के लिए आवश्यक तत्व एवं जीवन तत्व होता है।

विटामिंस कई प्रकार के हो सकते हैं जिनमें से कुछ विटामिन के लिए तो हमें प्राकृतिक जैसे फल हरी सब्जियां एवं पशु उत्पादों पर निर्भर रहना पड़ता है क्योंकि सभी तरह के प्रत्येक विटामिंस का उत्पादन हमारे शरीर में स्वयं नहीं हो पाता है।

कोई भी चिकित्सक विटामिन की खोज होने से पहले ऐसे भी रोगी को आहार में प्रोटीन वर्षा खनिज लवण कार्बोहाइड्रेट इत्यादि शामिल करने की सलाह देते थे। इन सभी कारणों से एवं इन तरीकों को अपनाकर शरीर में विटामिन की कमी को पूरा किया जा सकता था।

वैज्ञानिकों द्वारा लंबे समय के दौरान पर्वतारोहियों कैदियों गोताखोरों आदि के भोजन में वसा खनिज पदार्थ कार्बोहाइड्रेट एवं प्रोटीन की उचित मात्रा शामिल नहीं हुआ करती थी एवं यह पाया गया कि वे सभी लोग किसी ना किसी रोग से ग्रसित हो चुके थे। इन सभी रोग को दूर करने के लिए जिन जिन तत्वों की जानकारी वैज्ञानिकों द्वारा प्राप्त की गई उसे वैज्ञानिकों के द्वारा विटामिन नाम दिया गया।

विटामिन की खोज किसने की
विटामिन की खोज किसने की

विटामिन क्या होता है?

विटामिन एक प्रकार के कार्बनिक योगिक होते हैं जो किसी व्यक्ति के शरीर के उत्तको में एंजाइम का उत्पादन करते हैं। इस विटामिंस के कारण ही हमारे शरीर का उचित विकास होता है एवं इसकी वजह से हमारे शरीर में कई सारे रोगों से बचाव भी संभव हो पाता है। विभिन्न तरह के विटामिंस में भिन्न-भिन्न अनुपात में कार्बनिक अवयव की मात्रा मिलती जुलती रहती है। इसी विटामिन की मात्रा के आधार पर ही इसके गुणों में भिन्नता की जाती हैं। विटामिंस के प्रकार का भी वर्गीकरण इसी भिनता के आधार पर ही किया जाता है।

विटामिन्स के प्रकार क्या क्या है एवं उसकी कमी से होने वाले रोग

हमारे शरीर में विटामिन की कमी जैसे कम हरी सब्जियों फल आदि का सेवन करने से विटामिन की कमी की समस्या हो सकती है जिस के विभिन्न प्रकार है। तो चलिए विटामिन के कितने प्रकार होते हैं यह जानते हैं-

विटामिन ए – 

विटामिन ए की कमी से रात में अंधेपन की समस्या रतौंधी जैसी बीमारी होने की संभावना होती है। यह विटामिन मछली के तेल गाजर दूध अंडे आदि में पाई जाती है।

विटामिन डी – 

विटामिन डी की कमी से सूखा रोग एवं व्यस्को में अधिक मात्रा में पाई जाने वाली हड्डियों का कमजोर होना जैसी बीमारी जिसे आमतौर पर ओस्टियोमैलेशिया कहते हैं यह होने की संभावना होती है। यह विटामिन मक्खन मछली के तेल गेहूं अंडा आदि के अतिरिक्त इस विटामिन का सर्वोत्तम स्रोत सूर्य की किरने होती है।

विटामिन बी –

विटामिन बी की कमी से शरीर में खून की कमी एवं बेरी बेरी रोग की समस्या होती है। यह विटामिन अंडा पनीर मांस बींस ईस्ट हरी पत्तेदार सब्जियां अनाज टमाटर आदि में पाई जाती हैं।

विटामिन सी –

विटामिन सी की कमी से स्कर्वी रोग होने की संभावना होती है। या विटामिन नींबू संतरे टमाटर तथा क्षारीय फलों में पाई जाती है। विटामिन सी की एक उच्च मात्रा आंवले में भी पाई जाती है।

विटामिन के – 

विटामिन के की कमी से खून जमने की बीमारी हो सकती हैं। यह विटामिन अंडा हरी सब्जियां पनीर टमाटर आदि में पाया जाता है।

विटामिन ई:

 विटामिन ई की कमी से शरीर की प्रजनन क्षमता में कमी आती है। यह विटामिन मुख्य रूप से हरी सब्जियां अंडे की जर्दी गेहूं आदि में पाया जाता है।

शरीर में विटामिंस अधिक होने से भी यह शरीर को नुकसान पहुंचाने का कार्य करता है। इसी वजह से किसी भी विटामिन की गोली को लेने से पहले एक बार अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य लें ताकि आपको भविष्य में किसी भी परेशानियों का सामना ना करना पड़े।

Conclusion

विटामिन हमारे शरीर के लिए काफी फायदेमंद होती है। यदि हमारे शरीर में विटामिंस की कमी हो जाए तो हमारा शरीर रोग ग्रस्त हो जाएगा। अलग-अलग चीजों से हमें भिन्न-भिन्न तरह के विटामिन प्राप्त होते हैं। यदि हमारे शरीर में किसी विटामिंस की कमी हो जाए तो उसके लिए यह विटामिंस की दवाई बनाई गई है। अब आपको यह पता चल ही गया होगा की विटामिन क्या होती है एवं इसकी खोज किसने की थी?

मैं आशा करती हूं कि आपको आज का हमारा यह पोस्ट पसंद आया होगा। यदि आपको इस पोस्ट में विटामिन से संबंधित सभी तरह की जानकारी समझ आ गई हो तो इसे लाइक करें एवं शेयर करें ताकि और भी लोगों तक यह जानकारी पहुंच सके। यदि विटामिन से संबंधित किसी भी तरह के सवाल आपके मन में हो तो नीचे हमारे कमेंट बॉक्स के द्वारा हमसे आप अपने सवालों को पूछ सकते हैं हम आपके सवालों का जवाब देने का प्रयास करेंगे। धन्यवाद….

यह भी पढ़े – 

Previous articleजल का महत्व निबंध | Essay on importance of water Hindi 2021
Next articleदूरबीन का आविष्कार किसने किया और कब ? 2021

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here